मंगलवार, 8 जून 2021

जी लो जिंदगी शायरी | जिंदगी क्या है शायरी


जिंदगी बहुत ही हसीन है, जिंदगी हर दिन कुछ न कुछ सिखाती है, कभी हंसाती है तो कभी सताती है। जब भी निराशा और हताशा के बादल छायें, याद रखिए जो आप जिंदगी जी रहे हैं वह कई लोगों को नसीब नहीं होती।
चाहे परिस्थिति जैसी भी हो हमें आगे बढ़ते रहना चाहिए। "जी लो जिंदगी" पर कुछ शायरियां दी गई है जो आपको जरुर पसंद आएंगे।

जी लो जिंदगी शायरी 

jee lo jindagi shayari



यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है,
जिसमें न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है

चूम लो हर मुश्किल को अपना मान कर
क्यूकि  ज़िन्दगी कैसे भी है 
है तो अपनी ही


जब जीना ही हैं जिन्दगी को
तो क्यूँ पल-पल आँसू बहाये
एक बार हँसकर गले तो लगाओ गम को
ये गम आने से ही शरमाये



शिकायतें कम किया कीजिए जनाब
आप जो जिंदगी जी रहे हो
वो जिंदगी भी किसी के लिए सपना है


छोटी सी जिन्दगी है हंस के जियो ,
भुला के गम सारे,
दिल से जियो,
उदासी में क्या रखा है,
मुस्कुरा के जियो,
अपने लिए न सही अपनो के लिए जियो।


आँखों में पानी रखो, होंठो पे चिंगारी रखो,
जिंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो,
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें,
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो..


छोटी सी जिंदगी है हर बात में खुश रहो
जो चेहरा पास ना हो उसकी आवाज में खुश रहो
कोई रूठा हो आपसे उसके अंदाज़ में खुश रहो
जो लौट के नहीं आने वाले उनकी याद में खुश रहो
कल किसने देखा है अपने आज में खुश रहो


जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना
ये कमबख्त ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नहीं है


जिंदगी क्या है शायरी 


धूप में निकलो, घटाओं में नहाकर देखो,
ज़िन्दगी क्या है किताबों को हटाकर देखो।
- निदा फ़ाज़ली


कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िन्दगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी


ज़िन्दगी की राहों में.. ऐसा अक्सर होता है
फैसला जो मुश्किल हो वो ही बेहतर होता है


सपने ऐसे देखो जैसे आप हमेशा जीवीत रहोंगे, 
और ऐसे जिओ जैसे आप आज ही मरने वाले हो।


एक साँस सबके हिस्से से हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी, किसी की कट जाती है।


ज़िन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे है


शुक्रिया ज़िन्दगी शायरी


शुक्रिया ज़िन्दगी...जीने का हुनर सिखा दिया,
कैसे बदलते हैं लोग चंद कागज़ के टुकड़ो ने बता दिया,
अपने परायों की पहचान को आसान बना दिया,
शुक्रिया ऐ ज़िन्दगी जीने का हुनर सिखा दिया।



जिंदगी तू हर पल सिखाती हैं
कभी डाट कर कभी प्यार से समझाती हैं
गलती से सिखना ही असल जिन्दगी हैं
वरना ये जिन्दगी काटों पर भी सुलाती हैं


जिन्दगी एक किताब हैं
जिनमे कोरे पन्नो का सैलाब हैं
कोई भरता हैं इसे रंगीन शब्दों से
कोई लिखता हैं इसे काले अक्षरों से


नींद आना खत्म हो जाये जहाँ से।
बस जिंदगी के सफर की शुरुआत,
वहीं से होती है।



ऐ जिन्दगी एक नयी शुरुआत करते हैं
तुझे कुछ और भी ख़ास करते हैं
साथ अपनों का छुटा तो गम नहीं ,
प्यार जो मिला था वो तो कम नहीं ,
चलो खुशियों की मिठास भरते हैं
ये जिन्दगी एक नयी शुरुआत करते हैं


खुद को पढ़ते है, फिर छोड़ देते है।
एक पन्ना जिंदगी का,
हम रोज मोड़ देते है।


पढ़िए:


Comments

You can post your own Shayri in comment box.
EmoticonEmoticon