रविवार, 13 जून 2021

दोस्ती की कीमत शायरी


मुमकिन नही इस दोस्ती मे आपको भूल जाना,
मुमकिन नही इस दोस्ती को दिल से मिटा पाना,
आप एक अनमोल तोहफा हो दोस्ती का,
मुमकिन नही इस तोहफे की कीमत बता पाना


यदि तुम बेचो अपनी दोस्ती
तो पहले ग्राहक हम होंगे
तुम्हे अपनी कीमत पता नहीं होगी
पर तुम्हे पाकर सबसे खुशनसीब हम होंगे.



दोस्ती की कीमत कभी अदा नहीं होती; 
अच्छी दोस्ती कभी जुदा नहीं होती; 
आप की अदा पर मर मिटे हैं; 
वरना यूँ ही हमारी दोस्ती किसी पर फ़िदा नहीं होती।



Comments

1 komentar

इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

You can post your own Shayri in comment box.
EmoticonEmoticon