शनिवार, 15 मई 2021

किसी के मरने के बाद शायरी


दोस्तों हम सबको पता है की जो भी इस धरती पर पैदा हुआ है हर किसी को एक न एक दिन जाना है। आज भले ही हम किसी अपने के चले जाने पर दुखी हो रहे हों लेकिन एक दिन ऐसा भी होगा जब हम चले जायेंगे और हमारे अपने हमे याद करेंगे। दुनिया की यही रीत है, मौत ही अंतिम सत्य है। आज इस पोस्ट "किसी के मरने के बाद शायरी" में मरने वाले की याद में शायरी और कुछ दुःख भरे और अपनों को याद करने वाली शायरी दी जा रही है। दोस्तों मृत्यु के बाद व्यक्ति वापस नही आता लेकिन हम शायरी के माध्यम से उसे याद कर सकते हैं।

किसी के मरने के बाद शायरी 

बिछड़ा कुछ इस अदा से कि रुत ही बदल गई
इक शख़्स सारे शहर को वीरान कर गया।


जाने वाले कभी नहीं आते
जाने वालों की यादें आती हैं
दोस्त... तुम बहुत याद आओगे


एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा
आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा


बात कड़वी मगर सच हैं,
मृत्यु ही जीवन का सत्य हैं।


सफर पर निकले थे हम दोनों साथ,
राह पर मुझे वो अकेला छोड़ गया।


रहने को सदा दहर में आता नहीं कोई
तुम जैसे गए ऐसे भी कोई जाता नहीं।


मौत जिस्म की रिवायत है,
रूह को बस लिबास बदलना है।


तुम नही आओगे मुझे मालुम है,
पर तुम्हारी यादें... इन्हें कौन रोक सकता है।


अलविदा कह गया वो शख्स,
जिसने जिंदगीभर साथ निभाने का वादा किया था।
Miss you so much!


हर मोड़ पे कोई अपना छूट ही जाता है,
ये क्या तरीका है, ए ज़िन्दगी मौत से रूबरू कराने का।

किसी के चले जाने पर शायरी 

हो सके तो लौट आओ,
की तुम्हारे बिना जिंदगी अधूरी है।


मृत्यु सत्य है और शरीर नश्वर हैं,
यह जानते हुए भी अपनों के जाने का दुःख होता हैं
हमें ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए कि
दिवंगत आत्मा को शांति और मोक्ष प्रदान करें


क्या गिला करना अपनों से यहाँ,
मौत आजाये तो ज़िन्दगी भी मुह मोड़ लेती है।


जिसने जिंदगी जीना सिखाया,
आज वो जिंदगी से मुह मोड़ गया।
किसी के मरने के बाद शायरी


सोचता था जो कई बार कुछ दूर जाने से पहले,
आज बिन कहे लम्बे सफर पर चला गया


वक्त के साथ जख्म तो भर जायेंगे,
मगर जो बिछड़े सफर जिन्दगी में
फिर ना कभी लौट कर आयेंगे!


खुदा ने उसे ही दूर कर दिया मुझसे,
जो मुझे जान से भी प्यारा था।

भाई के मरने पर शायरी

लोग कहते हैं किसी एक के चले जाने से जिन्दगी अधूरी नहीं होती,
लेकिन लाखों के मिल जाने से उस एक की कमी पूरी नहीं होती
तुम बहुत याद आओगे भाई!


बचपन का साथी मेरा यार
मेरा हमदम, मेरा प्यार
मेरा प्यारा भाई तू जहाँ भी है खुश रहना


हो सके तो लौट आना भाई
की तुम बिन मेरी दुनिया सूनी है


जिसने हर दम मेरा साथ निभाया,
हर मोड़ पर मुझे संभाला,
मुझे जिंदगी जीना सिखाया,
आज वो भाई जिंदगी से हार गया
भाई तुम बहुत याद आओगे....


किसी के मरने के बाद शायरी, किसी के चले जाने पर शायरी के इस पोस्ट में बस इतना ही।
Comments

You can post your own Shayri in comment box.
EmoticonEmoticon