गुरुवार, 16 जुलाई 2020

तेरी आँखें हैं मधुशाला लिरिक्स - Teri Aankhe hai Madhushala is Par Sher Likhu Lyrics



Teri Aankhe hai Madhushala Lyrics | Hindi

तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखू या ग़ज़ल कहूँ
तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखू या ग़ज़ल कहूँ

तेरे होंठ हैं सुर्ख गुलाबी इसे एक प्यारा सा कमल कहूँ
तू मेरी चाहत तू ही मोहब्बत तू मेरी धड़कन तू मेरी हसरत
तुझको में उलफत कहूँ...

तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखूं या ग़ज़ल कहूँ
तेरे होंठ हैं सुर्ख गुलाबी इस पर एक प्यारा सा कमल कहूँ

तू मस्तानी है, मौजों की रवानी है, हो…
तू मस्तानी है, मौजों की रवानी है
कह के भी ना कह पाऊं तू ऐसी कहानी है
कह के भी ना कह पाऊं तू ऐसी कहानी है
तू मेरी सांसों में, तू मेरी यादों में
तू मेरी बातों में, तू मुलाक़ातों में
तुझको मैं किस्मत कहूँ…
तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखू या ग़ज़ल कहूँ
तेरे होंठ हैं सुर्ख गुलाबी इसे एक प्यारा सा कमल कहूँ

तू सर्दी की धूप, तू गर्मी की छाओं हो…
तू सर्दी की धूप, तू गर्मी की छाओं
देख के छाए नशा तू ऐसी है जाम
देख के छाए नशा तू ऐसी है जाम

तू मेरी खुशी है, तू  मेरी जूस्तजू, तू मेरी दुनिया
तू मेरी जिंदगी, तुझको में जन्नत कहूँ
तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखू या ग़ज़ल कहूँ
तेरे होंठ हैं सुर्ख गुलाबी इसे एक प्यारा सा कमल कहूँ
तू मेरी चाहत तू ही मोहोब्बत तू मेरी धड़कन तू मेरी हसरत
तुझको में उलफत कहूँ…..

तेरी आँखें हैं मधुशाला इस पर शेर लिखू या ग़ज़ल कहूँ
तेरे होंठ हैं सुर्ख गुलाबी इस इसे एक प्यारा सा कमल कहूँ

Teri Aankhe hai Madhushala Lyrics | English


Teri aankhe hai madhushala is par sher likhu ya gajal kahoo
Teri aankhe hai madhushala is par sher likhu ya gajal kahoo
Tere hooth hai shurkh gulabi is par ek pyaara sha kamal kahoo
Tu meri chahat tu hi mohobbat tu meri dhadkan tu meri hasharat
Tujhako mein ulfat kahoo…..

Teri aankhe hai madhushala is par sher likhoo ya gajal kahoo
Tere hooth hai shurkh gulabi isper ek pyaara sha kamal kahoo

Tu mastani hai, maujoo ki ravaani hai, ho…
Tu mastani hai, maujoo ki ravaani hai
Kahekey bhi na kh paauu tu ashi kahani hai
Kahekey bhi na kh paauu tu ashi kahani hai
Tu meri saanshon mein, tu meri yaadhon mein
Tu meri baaton mein, tu mulaakaton mein
Tujhakoo mein kismat kahoo….

Teri aankhe hai madhushala is par sher likhoo ya gajal kahoo
Tere hooth hai shurkh gulabi isper ek pyaara sha kamal kahoo

Tu sardi ki dhoop, tu garmi ki chaau ho…
Tu sardi ki dhoop, tu garmi ki chaau
Dekh key karchye nasha tu ashi hai jaam
Dekh key karchye nasha tu ashi hai jaam

Tu meri khushi hai, tu meri justju, tu meri duniya
Tu meri jindagi, tujhako mein jannat kahoo
Teri aankhe hai madhushala isper sher likhoo ya gajal kahoo
Tere hooth hai shurkh gulabi isper ek pyaara sha kamal kahoo
Tu meri chahat tu hi mohobbat tu meri dhadkan tu meri hasharat
Tujhako mein ulfat kahoo…..

Teri aankhe hai madhushala isper sher likhoo ya gajal kahoo
Tere hooth hai shurkh gulabi isper ek pyaara sha kamal kahoo
Comments

You can post your own Shayri in comment box.
EmoticonEmoticon

loading...